environment in the age of market economy

image credit : unsplash Competitive economy and protection of environment have been at loggerheads since perhaps the agricultural age. The first disturbances to earth's natural ecosystem must have started when men cleared a part of the forest to plant crops. Still there are many societies that live in deep forests without doing any agriculture. They … Continue reading environment in the age of market economy

Let noble thoughts come to us from all sides

Are we living in a world fragmented not only by physical boundaries but also by ideological boundaries? In India at least until a few years ago we never heard words like 'right wing', 'left wing', 'centre left', 'right of centre', 'liberal’ etc. in our popular discourses. Now even people take pride in branding and labeling … Continue reading Let noble thoughts come to us from all sides

Mein nikla satya ke sandhan mein

PEBBLES AND WAVES

मैं निकला सत्य के
संधान में |

दिन दहाड़े , डायोजिनिज के लालटेन ले के
राजधानी के राजपथ पर,
सत्ता के गलियों में,
कलाकारों के रंग मंच में,
मंदिर , मस्जिद और गिरिजाघरों में |
ढ़ूँढ़ता रहा
वो सच्च जो कबका खो गया है,
या सुलाया गया है,
राजनेताओं के सफाई , आरोप
और प्रत्यारोप में,
पत्रकारों के हल्ला में,
क्रांतिकारियों के हल्लाबोल में,
धर्म गुरूओं केशास्त्रार्थ में,
बाबूओं के फाइलों के नोटिंगस् में
विचारपत्तियों के लम्बी – लम्बी
आदेशों में |
सभी ने एक साथ बोला
सच्च का पता लगा तो
गजब हो जाएगा,
देश बरबाद हो जाएगा,
आखिर लोग भी तो अभी कच्चे हैं
सच्च को छूपाने में
है हमारी समझदारी
और हमारी जिम्म्दारी भी
फिर कोई एक मुझे चुपके से कहा
” आखिर दूकान भी तो चलाना है ” !!!

Mein nikla satya ke sandhan mein

Din dahade, Diogenes ke laltan leke

Rajdhani ke rajpath par

Satta…

View original post 135 more words