Mein nikla satya ke sandhan mein

PEBBLES AND WAVES

मैं निकला सत्य के
संधान में |

दिन दहाड़े , डायोजिनिज के लालटेन ले के
राजधानी के राजपथ पर,
सत्ता के गलियों में,
कलाकारों के रंग मंच में,
मंदिर , मस्जिद और गिरिजाघरों में |
ढ़ूँढ़ता रहा
वो सच्च जो कबका खो गया है,
या सुलाया गया है,
राजनेताओं के सफाई , आरोप
और प्रत्यारोप में,
पत्रकारों के हल्ला में,
क्रांतिकारियों के हल्लाबोल में,
धर्म गुरूओं केशास्त्रार्थ में,
बाबूओं के फाइलों के नोटिंगस् में
विचारपत्तियों के लम्बी – लम्बी
आदेशों में |
सभी ने एक साथ बोला
सच्च का पता लगा तो
गजब हो जाएगा,
देश बरबाद हो जाएगा,
आखिर लोग भी तो अभी कच्चे हैं
सच्च को छूपाने में
है हमारी समझदारी
और हमारी जिम्म्दारी भी
फिर कोई एक मुझे चुपके से कहा
” आखिर दूकान भी तो चलाना है ” !!!

Mein nikla satya ke sandhan mein

Din dahade, Diogenes ke laltan leke

Rajdhani ke rajpath par

Satta…

View original post 135 more words

My Village My Country – the book

After being a part of Blogchatter e- book carnival 2020, 'My Village My Country' has been shifted to Amazon. This book is a compilation of all the articles I wrote for the Blogchatter A to Z blogging challenge. April is the month when Indian blog aggregator site Blogchatter organizes AtoZ blogging challenge. Barring the Sundays, … Continue reading My Village My Country – the book

Sri Jagannath: beyond myths and miracles

No religion or spiritual sect is complete without myths and miracles. Stories of miracles abound around Lord Jagannath. Being the Kaliyuga form of Lord Krishna even though he is primarily a Vaishnav God, his devotees have come from diverse sects and religions over the past millennium. After all, the deity is none other than Jagannath … Continue reading Sri Jagannath: beyond myths and miracles