Upendra Bhanja : the emperor of Odia Poetry

April is a wake up call for laid back poets as the 'National Poetry Writing Month' virus goes global. According to some poets, poetry writing is not like erecting a building. For building construction you have a plan and then there is a time schedule based on which you work everyday whether you have inspiration … Continue reading Upendra Bhanja : the emperor of Odia Poetry

Mein nikla satya ke sandhan mein

मैं निकला सत्य के संधान में | दिन दहाड़े , डायोजिनिज के लालटेन ले के राजधानी के राजपथ पर, सत्ता के गलियों में, कलाकारों के रंग मंच में, मंदिर , मस्जिद और गिरिजाघरों में | ढ़ूँढ़ता रहा वो सच्च जो कबका खो गया है, या सुलाया गया है, राजनेताओं के सफाई , आरोप और प्रत्यारोप … Continue reading Mein nikla satya ke sandhan mein